सादर जय जिनेन्द्र!

आपको इस वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारियां कैसी लगी.
हमें आपका जरूर कराएं।

आत्म कीर्तन

Spread the love

(सहजानन्द वर्णी)

हूँ स्वतन्त्र निश्चल निष्काम, ज्ञाता द्रष्टा आतमराम। टेक।

मैं वह हूँ जो है भगवान, जो मैं हूँ वह है भगवान।

अन्तर यही ऊपरी जान, वे विराग यह राग-वितान॥ १॥

divider LINE new

मम स्वरूप है सिद्ध समान, अमित शक्ति-सुख-ज्ञान-निधान।

किन्तु आशवश खोया ज्ञान, बना भिखारी निपट अजान॥2 ॥

divider LINE new

सुख-दुख-दाता कोई न आन, मोह-राग-रुष दुख की खान।

निज को निज, पर को पर जान, फिर दुख का नहिं लेश निदान॥3 ॥

divider LINE new

जिन, शिव, ईश्वर, ब्रह्मा, राम, विष्णु, बुद्ध, हरि जिनके नाम।

राग त्यागि पहुँचूँ शिव धाम, आकुलता का फिर क्या काम॥4 ॥

divider LINE new

होता स्वयं जगत-परिणाम, मैं जग का करता क्या काम ।

दूर हटो पर-कृत परिणाम, सहजानन्द रहूँ अभिराम॥ ५॥

जय जिनेन्द्र, आपको यह कंटेन्ट कैसा लगा??? हमें जरूर बताए, जिससे हम आपको और बेहतर कंटेन्ट दे सकेंगे।
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TOP